Ayodhya Ram Mandir Photos: Check Stunning and Beautiful Images

The consecration turned into a global ceremony with 8,000 people invited, of whom 1,500–1,600 were considered “eminent” guests and others participating through TV and the internet.

The ‘Pran Pratishtha’ ceremony of the Ram Mandir in Ayodhya took place on January 22 with leaders, actors, sportspersons, and industrialists in attendance.

Ayodhya Ram Mandir Photos

RamMandirPranPratishtha #AyodhyaRamMandir

Prime Minister Narendra Modi led the Pran Pratishtha ceremony at the Ram Temple in Ayodhya today. Yogi Adityanath, the chief minister of Uttar Pradesh, and Mohan Bhagwat, the leader of the RSS, were with him including many others at the auspicious occasion. As the rituals concluded Monday morning, the curtains of the sanctum sanctorum were removed and the temple will be open for devotees and regular visitors from January 24, 2024. 

See also  Ayodhya Ram Mandir Highlights: प्राण प्रतिष्ठा के बाद घर-घर जलाए गए दीपक, दिवाली जैसा दिखा नजारा

भगवान राम की इस मूर्ति को कर्नाटक के मूर्तिकार अरुण योगीराज ने बनाया है। ये मूर्ति शालीग्राम शिला से तैयार की गई है। यह काले रंग का पत्थर होता है। इस वजह से मूर्ति का रंग काला है। शास्त्रों में शालीग्राम पत्थर को भगवान विष्णु का स्वरूप माना गया है और जैसा कि सभी जानते हैं कि मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम भगवान विष्णु के ही सातवें अवतार हैं। इसलिए ही राम जी की प्रतिमा को शालीग्राम शिला से बनाया गया है। यहां देखें अयोध्या राम मंदिर और रामलला की तस्वीरें।

  • ayodhya-ram-mandir-photo
  • img-2
  • ram mandir ayodhya photos-2
  • ram mandir ayodhya photos3
  • ram mandir ayodhya photos4
  • ram mandir ayodhya photos5
  • ram mandir ayodhya photos6
  • ram mandir ayodhya photos7
  • ram mandir ayodhya photos8
  • ram mandir ayodhya photos9
  • ram mandir ayodhya photos10

भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर बनकर तैयार हो गया है। मंदिर का कोना-कोना बेहद खूबसूरती से सजाया गया है।

रामलला की मूर्ति काली क्यों है?

रामलला की मूर्ति बेहद ही खूबसूरत है। इस मूर्ति में रामलला माथे पर तिलक लगाए बेहद सौम्य मुद्रा में दिख रहे हैं। राम लला के चेहरे पर भक्तों का मन मोह लेने वाली मुस्कान दिखाई दे रही है। इनकी मूर्ति का निर्माण श्याम शिला से हुआ है, जिसका रंग काला होता है। इस वजह से भी रामलला की मूर्ति श्यामल है। इस काले पत्थर को कृष्ण शिला कहा जाता है। शास्त्रों में जिस कृष्ण शिला से रामलला की मूर्ति का निर्माण हुआ है उसे बेहद खास माना जाता है।

See also  Khelo India Youth Games 2024 Registration, Apply Online, KIYG Schedule

क्यों खास है भगवान राम की मूर्ति में उपयोग हुने वाला पत्थर?

जिस श्याम शिला से भगवान राम की मूर्ति बनाई गई है, उसकी आयु हजारों साल होती है। मूर्ति को जल से कोई नुकसान नहीं होगा। साथ ही कहा जा रहा है कि चंदन, रोली आदि लगाने से भी मूर्ति पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। 

मूर्ति की खासियत

रामलला की मूर्ति में पांच साल के बालक की कोमलता झलक रही है। इस मूर्ति में बालत्व, देवत्व और एक राजकुमार तीनों की छवि दिखाई दे रही है। मूर्ति का वजन करीब 200 किलोग्राम है। इसकी कुल ऊंचाई 4.24 फीट, जबकि चौड़ाई तीन फीट है। कमल दल पर खड़ी मुद्रा में मूर्ति, हाथ में तीर और धनुष है। कृष्ण शैली में मूर्ति बनाई गई है।

See also  Ayodhya Ram Mandir Opening Date and Time

रामलला की मूर्ति के ऊपर स्वास्तिक, ॐ, चक्र, गदा और सूर्य देव विराजमान हैं। रामलला के चारों ओर आभामंडल है। भगवान राम की भुजाएं घुटनों तक लंबी हैं। मस्तक सुंदर, आंखें बड़ी और ललाट भव्य है। इनका दाहिना हाथ आशीर्वाद की मुद्रा में है। मूर्ति में भगवान विष्णु के 10 अवतार दिखाई दे रहे हैं। मूर्ति नीचे एक ओर भगवान राम के अनन्य भक्त हनुमान जी तो दूसरी ओर गरुड़ जी को उकेरा गया है। 

Leave a Comment